दक्षिण अफ्रीका में अब नहीं लगेगी जॉनसन एंड जॉनसन की Corona वैक्सीन


इस संबंध में प्रदेश स्तर पर शासन सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से आदेश जारी कर दिए गए हैं.

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) ने भी जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson And Johnson) कोविड-19 टीके का इस्तेमाल रोकने का फैसला किया है.

जोहानिसबर्ग. अमेरिका के बाद अब दक्षिण अफ्रीका (South Africa) ने भी जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson And Johnson) कोविड-19 टीके का इस्तेमाल रोकने का फैसला किया है. ऐसी खबरें आयी थीं कि कंपनी का टीका लगवाने वाली छह महिलाओं के शरीर में खून के थक्के जम गए और साथ ही प्लेटेलेट्स गिर गए. स्वास्थ्य मंत्री ज्वेली मिजे ने मंगलवार शाम को एक बयान में कहा, ‘‘इस परामर्श के पता चलने के बाद मैंने हमारे वैज्ञानिकों के साथ तत्काल विचार-विमर्श किया जिन्होंने सलाह दी कि यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के फैसले को हल्के में नहीं लिया जा सकता.’’

उन्होंने कहा, ‘‘उनकी सलाह पर हमने खून के थक्के जमने और जॉनसन एंड जॉनसन टीके के बीच संबंध का पता लगने तक इस टीके का इस्तेमाल रोकने का फैसला किया है.’’ मिजे ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में टीका लगवाने के बाद खून के थक्के जमने की कोई खबर नहीं आयी है जबकि 289,787 स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों को यह टीका लग चुका है। खून के थक्के जमने के सभी मामले अमेरिका में आए हैं. जॉन्स हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 से 1,561,559 लोग संक्रमित हो चुके हैं तथा 53,498 लोगों की मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़ें: एस्ट्राजेनेका की कोविड-19 रोधी वैक्सीन को पूरी तरह बैन करने वाला पहला यूरोपीय देश बना डेनमार्क

डेनमार्क में एस्ट्राजेनेका के उपयोग पर रोकबता दें, डेनमार्क ने बुधवार को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका टीका का उपयोग फिर से शुरू नहीं करने का फैसला किया. डेनमार्क ने कुछ लोगों में रक्त के थक्के बनने की खबरों के बीच पिछले महीने इस टीके के उपयोग को स्थगित कर दिया था. डेनमार्क हेल्थ अथॉरिटी के निदेशक सोरेन ब्रॉस्ट्रॉम ने पत्रकारों को बताया, ‘डेनमार्क का टीकाकरण अभियान एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन के बिना आगे बढ़ेगा.’ ब्रोस्ट्रॉम ने कहा ‘टीके और कम प्लेटलेट काउंट के बीच एक संभावित क्रॉस-रिएक्शन है. हम यह भी जानते हैं कि एक अस्थायी संबंध है. यह एस्ट्राजेनेका के साथ टीकाकरण के एक सप्ताह से दस दिन बाद होता है.’ ब्रोस्ट्रॉम ने कहा कि ‘निर्णय प्रासंगिक है. डेनमार्क में अधिकांश आबादी को टीका लगाया गया है और महामारी नियंत्रण में है.’ उन्होंने कहा कि ‘मैं अच्छी तरह से समझ सकता हूं कि अन्य देश टीके का उपयोग कर रहे हैं.’ डेनमार्क के स्वास्थ्य प्राधिकरण ने यह भी कहा कि ‘यदि स्थिति में परिवर्तन होता है तो टीके को बाद फिर से पेश कर सकता है.’







Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *